Festivals

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है | Christmas Day Kyu Manaya Jata Hai

सोशल मीडिया में शेयर करें

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है (Christmas Day Kyu Manaya Jata Hai) : क्रिसमस का त्योहार साल का सबसे महत्वपूर्ण त्योहार होता है। क्रिसमस पूरी दुनिया में सभी धर्मों के लोगों द्वारा व्यापक रूप से मनाया जाता है। क्रिसमस का त्योहार ईसाइयों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।

क्रिसमस का त्योहार ईसा मसीह के जन्म का त्योहार है, इस दिन को पूरी दुनिया में ईसा मसीह के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि ईसा मसीह का जन्म 25 दिसंबर को हुआ था, तभी से इस दिन को क्रिसमस के रूप में मनाया जाता है। ईसा मसीह को ईसाई धर्म में ‘ईश्वर के पुत्र’ के रूप में भी जाना जाता है।

क्रिसमस का त्योहार दुनिया भर के 170 से अधिक देशों में बहुत धूमधाम और उल्लास के साथ मनाया जाता है। क्रिसमस मनाने के कई तरीके हैं, जो दिसंबर के महीने में आते हैं। क्रिसमस सभी देशों में अलग-अलग तरीकों से मनाया जाता है।

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है | Christmas Day Kyu Manaya Jata Hai

बेथलहम में यीशु मसीह के जन्म के सम्मान में दुनिया भर के ईसाई ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार हर साल 25 दिसंबर को क्रिसमस मनाते है। पूरी दुनिया में इस दिन को बड़े हर्षों-उल्लास के साथ मनाया जाता है।

Christmas Day Kyu Manaya Jata Hai
Christmas Day Kyu Manaya Jata Hai

क्रिसमस डे की कहानी

क्रिसमस का उत्सव ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार क्रिसमस से एक दिन पहले शुरू होता है, जिसे क्रिसमस की पूर्व संध्या के रूप में मनाया जाता है। क्रिसमस की पूर्व संध्या 24 दिसंबर को ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार मनाई जाती है। इसके बाद क्रिसमस आता है। यानी क्रिसमस 25 दिसंबर को मनाया जाता है। क्रिसमस के अगले दिन यानी 26 दिसंबर को पूरी दुनिया में बॉक्सिंग डे के रूप में मनाया जाता है।

इसे भी पढ़ें :  Christmas Movies on Netflix 2020 : Top Christmas New Movies on Netflix 2020 | Stream Online Free New Holiday Movies

क्रिसमस दुनिया के सभी देशों में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। क्रिसमस पर हर कोई अपने घरों को सजाता है, रोशनी करता है और क्रिसमस ट्री को सजाता है।

क्रिसमस के पीछे कई पारंपरिक कहानियां हैं। एक प्राचीन कथा के अनुसार, यीशु के माता-पिता किसी काम से बेथलहम गए थे। लेकिन उसे बेतलेहेम शहर में कोई आवास नहीं मिला।

इसके बाद वह रात में घोड़े के अस्तबल (सराय) में रहे, आधी रात को यीशु का जन्म उसी सराय में हुआ था। आपको बता दें कि जीसस के जन्म से जुड़ी इस प्राचीन कथा को ‘द नेटिविटी ऑफ जीसस’ के नाम से जाना जाता है।

क्रिसमस पर सभी घरों में कई तरह के व्यंजन बनाए जाते हैं। क्रिसमस के मौके पर क्रिसमस कैरल गाए जाते हैं। बच्चे भी क्रिसमस को उल्लास के साथ मानते हैं। क्रिसमस पर बच्चों को उनके माता-पिता और सांता क्लॉज की ओर से ढेर सारे तोहफे मिलते हैं। क्रिसमस 25 दिसंबर को पूरी दुनिया में उल्लास के साथ मनाया जाता है। आपको क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनाएं!

हम 25 दिसंबर को क्रिसमस क्यों मनाते हैं?

बेथलहम में यीशु मसीह के जन्म के सम्मान में दुनिया भर के ईसाई ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार हर साल 25 दिसंबर को क्रिसमस मनाते है।

गर्मी में क्रिसमस का पर्व कहाँ मनाया जाता है?

ऑस्ट्रेलिया उत्तरी गोलार्द्ध में स्थित है। जब दुनिया ठंड और बर्फ में लिपटी रहती है, उस वक्त यहां गर्मी की तपन आस्ट्रेलिया के लोगों को झुलसा रही होती है। ऐसे में यहां का क्रिसमस भी बेहद खास होता है। यही कारण है कि ऑस्ट्रेलिया के लोग क्रिसमस मनाने के लिए समुद्र तट की ओर भागते हैं। ऑस्ट्रेलिया का मशहूर बोंडी बीच क्रिसमस के समय गुलजार रहता है। ऑस्ट्रेलिया में क्रिसमस का त्योहार कुछ हटके मनाया जाता है।

इसे भी पढ़ें :  Christmas Celebration के लिए भारत की 5 सबसे बेहतरीन जगह : Best Places for Christmas Celebration in India 2020
25 दिसंबर को कौन सा दिन है?

25 दिसंबर को पूरी दुनिया में क्रिसमस डे मनाया जाता है।

क्रिसमस ट्री की शुरुआत कैसे हुई?

इसकी उत्पत्ति ईसाई धर्म की शुरुआत से बहुत पहले सर्दियों के उत्सवों के भीतर होती है। एक पेड़ को सजाने, या पौधों और पेड़ों का उपयोग करने के लिए जो हर साल हरे-भरे होते थे, सर्दियों के मौसम में लोगों के लिए महत्वपूर्ण थे।


सोशल मीडिया में शेयर करें

Leave a Reply

You cannot copy content of this page
error: Content is protected !!