Chanakya

चाणक्य नीति से दुश्मन को दोस्त कैसे बनाएँ : Chanakya Niti

सोशल मीडिया में शेयर करें

चाणक्य नीति : चाणक्य ने अपनी चाणक्य नीति में दो ऐसी बातों का वर्णन किया है, जिनकी मदद से कोई भी इंसान अपने दुश्मन को अपना दोस्त बना सकता है।

अर्थशास्त्र के महान ज्ञानी आचार्य चाणक्य ने मानव जीवन को बेहतर बनाने के लिए अपनी नीति पुस्तक “चाणक्य नीति” में कई नीतियों का वर्णन किया है। कहा जाता है कि चाणक्य की नीति को आम लोगों ने ही नहीं, बल्कि राजाओं और बादशाहों ने भी अपनाया था।

चाणक्य नीति से दुश्मन को दोस्त कैसे बनाएँ

चाणक्य नीति” में चाणक्य ने जीवन, मृत्यु, मित्र, शत्रु, अच्छे और बुरे सहित कई विषयों से संबंधित समस्याओं के समाधान का वर्णन किया है। उन्होंने अपनी पुस्तक ‘चाणक्य नीति’ में भी दो ऐसी बातें बताई हैं जिनकी सहायता से मनुष्य अपने शत्रु से मित्रता कर सकता है। ये दो गुण मनुष्य को सफलता प्राप्त करने में भी मदद करते हैं।

चाणक्य नीति से दुश्मन को दोस्त कैसे बनाएँ - Chanakya Niti
चाणक्य नीति से दुश्मन को दोस्त कैसे बनाएँ – Chanakya Niti

चाणक्य नीति के अनुसार किसी भी दुश्मन को अपना परम मित्र बनाने के लिए ईमानदारी और विनम्र स्वभाव सबसे ज़रूरी बातें हैं. आइए जानते हैं कैसे और चाणक्य ने ऐसा क्यों कहा था.

ईमानदारी

आचार्य चाणक्य के अनुसार, यदि आप सफल होना चाहते हैं तो आपको कभी झूठ नहीं बोलना चाहिए। झूठ के बल पर मिली सफलता का अहसास हमेशा दिल को झकझोरता है। साथ ही झूठ से मानवीय प्रतिभा का भी हनन होता है। उसे समाज में सम्मान नहीं मिलता। आपके लोग भी झूठ से दूरी बनाए रखें।

वहीं सच बोलने वाला स्पष्टवादी होता है और इसीलिए समाज में उसका सम्मान होता है। चाणक्य नीति के अनुसार इस आदत को जानकर उसके दुश्मन भी दोस्त बन जाते हैं।

इसे भी पढ़ें :  सम्पूर्ण चाणक्य नीति हिंदी में | Chanakya Niti Hindi

विनम्र स्वभाव

चाणक्य कहते हैं कि मानव स्वभाव विनम्रता से भरा होना चाहिए। विनम्र लोग हमेशा लोगों के प्रिय होते हैं। लोग उन्हें प्यार करते हैं। विनम्र स्वभाव के व्यक्ति को क्रोध नहीं आता और वह सब कुछ बड़े धैर्य से करता है। चाणक्य नीति के अनुसार क्रोध पर काबू पाने के लिए विनम्र होना चाहिए। इस गुण को अपनाने वाले के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं।

तो अगर आप अपने दुश्मनों को परम मित्र बनाना चाहते हैं, तो चाणक्य नीति का पालन करें और ईमानदारी और विनम्र स्वभाव को अपना कर देखें।


सोशल मीडिया में शेयर करें

Leave a Reply

You cannot copy content of this page
error: Content is protected !!