चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत ने कहा कि चीन के साथ वार्ता विफल होने पर सैन्य विकल्प का ऑप्शन बचा हुआ है

भारत के चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत ने स्पष्ट रूप से कहा है कि लद्दाख में चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी द्वारा किए गए बदलावों से निपटने के लिए एक सैन्य विकल्प पर विचार कर रहे हैं, लेकिन सेना का इस्तेमाल दोनों देशों की सेनाओं और राजनायिक बातचीत फेल होने के बाद ही इसका उपयोग किया जाएगा।

Statement by Chief of Defence Staff (CDS) General Bipin Rawat

Statement by Chief of Defence Staff (CDS) General Bipin Rawat

जनरल रावत के कहा - एलएसी के साथ बदलाव इसके संरेखण के बारे में अलग-अलग धारणाओं के कारण होते हैं। रक्षा सेनाओं को निगरानी रखने और निगरानी करने और घुसपैठ को रोकने के लिए ऐसे अभियानों को करने का काम सौंपा जाता है।

किसी भी ऐसी गतिविधि को शांतिपूर्वक हल करने और घुसपैठ को रोकने के लिए सरकार के संपूर्ण दृष्टिकोण को अपनाया जाता है। सेनाएँ हमेशा सैन्य अभियानों के लिए तैयार रहती हैं, एलएसी के साथ यथास्थिति को बहाल करने के बातचीत के प्रयास सफल होने चाहिए, अगर ऐसा नही होता तो हमारे पास सेना का इस्तेमाल करने के अलावा कोई और विकल्प नही बचेगा।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए जिम्मेदार सभी लोग इस उद्देश्य के साथ सभी विकल्पों की समीक्षा कर रहे हैं कि चीनी सेना बातचीत से लद्दाख में यथास्थिति बहाल करती है या नही।

सीडीएस रावत जो 2017 में पीएलए के खिलाफ डोकलाम में 73-दिवसीय सैन्य गतिरोध के दौरान सेना प्रमुख थे, ने इस धारणा को भी खारिज कर दिया कि प्रमुख खुफिया एजेंसियों के बीच समन्वय की कमी है। उन्होंने कहा कि भारत की हिंद महासागर क्षेत्र के साथ-साथ उत्तरी और पश्चिमी सीमाओं पर एक विशाल फ्रंट-लाइन है, जिसकी सभी को निरंतर निगरानी की आवश्यकता है।

उन्होंने बताया - भारत अभी भी अपने हित के क्षेत्रों पर नजर रखने के लिए चौबीसों घंटे क्षमताओं का अधिग्रहण करने की दिशा में काम कर रहा है, लेकिन सूचनाओं के संग्रहण और संयोजन के लिए जिम्मेदार सभी एजेंसियों के बीच नियमित रूप से बातचीत होती है। शीर्ष मल्टी-एजेंसी केंद्र दैनिक आधार पर बैठक कर रहा है, और लगातार लद्दाख या किसी अन्य क्षेत्र में जमीन पर स्थिति से सभी को अवगत कराते रहते हैं।

शनिवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एनएसए और तीनों सेवा प्रमुखों के साथ लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के साथ गतिरोध पर चर्चा की। चीन ने लद्दाख में LAC के साथ अपनी सेना की विशाल उपस्थिति कर दी है, इसके साथ ही भारत ने भी अपनी सेना की भारी तैनाती कर दी है।

15 जून को दोनों पक्षों के बीच एक खूनी झड़प में 20 भारतीय सैनिकों शहीद हो गए थे और एक अज्ञात संख्या में चीनी सैनिक भी मारे गए थे। लेकिन इस क्षेत्र में चीनी सेना अभी तक अपनी उपस्थिति जारी रखे हुए है।

दोनों सेनाओं के बीच एक कूटनीतिक बातचीत शुरू हुई है, जो पहले पूरी तरह से विघटन और फिर डी-एस्केलेट करने के लिए होती थी, लेकिन पीएलए पीछे नही हट रही है इसके पीछे चीन की घरेलू राजनीतिक प्रतिध्वनि है। सेना ने शनिवार की बैठक का विवरण नही दिया और ना ही कोई परिचालन विवरण को साझा किया।

सीमावर्ती क्षेत्रों में भारत के बुनियादी ढांचे के विकास कार्यक्रमों पर, सीडीएस ने कहा कि यह कुछ वर्षों से चल रहा है। इन परियोजनाओं को प्राथमिकता देने के लिए नियमित बैठकें आयोजित की जाती हैं। परियोजनाओं को पिछले तीन से चार वर्षों में वांछित प्रोत्साहन दिया गया है।

हमारे उत्तरी सीमाओं के अन्य क्षेत्रों में दरबूक-श्योक-डोलेट बेग ओल्डी (डीएसडीबीओ) सड़क जैसे हमारे बुनियादी ढांचे का विकास हमारे लोगों को कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए किया गया है। साथ ही यह सुरक्षा बलों की सहायता भी करता है जो हमारी सीमा क्षेत्रों में निगरानी बनाए रखने के लिए जिम्मेदार हैं। प्राथमिकता के साथ इनके विकास के प्रोत्साहन ने भविष्य के लिए रणनीतिक कनेक्टिविटी के विकास में मदद की है।

यह व्यापक रूप से माना जाता है कि चीनी अतिक्रमण का तात्कालिक कारण DSDBO सड़क का निर्माण था।

भारत का सर्वोच्च चीन अध्ययन समूह, जिसमें सरकार के वरिष्ठतम मंत्री और अधिकारी शामिल हैं। पीएलए द्वारा अपनाए गए इस तरह के क़दम के साथ-साथ लद्दाख क्षेत्र की स्थिति की समीक्षा करने के लिए नियमित रूप से बैठक करते रहे हैं। सुरक्षा एजेंसियां ​​लगातार चीनी सेना के बारे में 3488 किलोमीटर एलएसी पर मानव और तकनीकी खुफिया जानकारी एकत्र कर रही हैं।

भारतीय सेना को न केवल कब्जे वाले अक्साई चिन क्षेत्र में चीनी सैन्य क्षमता के बारे में पता है, बल्कि तकनीक-खुफिया और उपग्रह इमेजरी के माध्यम से चीन के अंदर की भी जानकारी है। भारतीय वायु सेना ने अपने रडार और सेटेलाइट का उपयोग करके देखा है की चीन अपने J-20 स्टील्थ लड़ाकू विमानों को हॉटन एयर बेस में लाया था और फिर उन्हें अलग स्थान पर ले गया।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां