भारत के इन 5 मंदिरों के रहस्य जानकार आप हैरान रह जाएँगे - mysterious temples in India

Mysterious Temples in India - भारत को देव भूमि कहा जाता है। भारत में एक से बढ़कर एक सुंदर और भव्य मंदिर है। जो लोगों का मन मोह लेते हैं। इन मंदिरों को देखने के लिए न सिर्फ देश से बल्कि विदेशों से भी बड़ी संख्या में लोग आते हैं।

5 mysterious temples in india, Hindu temples


भारत में कई ऐसे मंदिर हैं जिन्हें चमत्कारी और रहस्यमयी माना जाता है। जहां मंदिरों में सुबह होते ही भजन शुरू हो जाते हैं, जहां ढोल नगाड़े और मंदिर की घंटियां बजने लगती है। किसी विशेष पर्व पर मंदिरों को भव्यता से सजाया जाता है। जिससे इनकी सुंदरता देखते ही बनती है।
5 Mysterious Temples in India

वहीं मंदिर को लेकर कई प्राचीन कथाएं और मान्यताएं भी हैं। भारत में ऐसे कई रहस्यमयी मंदिर हैं, जिनके बारे में जानकार आप हैरान रह जायेंगे। आज Hindu Alert में हम आपको भारत के पांच रहस्यमयी मंदिरों के बारे में जानकारी देंगे। इनके रहस्य को आजतक कोई भी सुलझा नहीं पाया न विज्ञान, ही ना आध्यात्म।

नमस्कार दोस्तों, आज हम आपको भारत के रहस्यमयी मंदिरों के बारे में बताने वाले हैं। इस लेख में हम भारत के पांच मंदिरों और उन मंदिरों से जुड़े रहस्य आपको बताएंगे। आप ने इन मंदिरों में से किस-किस मंदिर के दर्शन किए हैं, हमें कमेंट करके जरूर बताएं और आइए जानते हैं भारत के 5 रहस्यमयी मंदिरों के बारे में -

5 Mysterious Temples in India


ये हैं भारत के 5 रहस्यमयी मंदिर, इनके बारे में नीचे विस्तार से जानकारी दी गई है :

  1. काल भैरव मंदिर, उज्जैन
  2. जगन्नाथ पुरी मंदिर, उड़ीसा
  3. माता शारदा का मंदिर, (मैहर) मध्यप्रदेश
  4. ज्वाला देवी मंदिर
  5. भोजेश्वर मंदिर, मध्य प्रदेश

1. काल भैरव मंदिर, उज्जैन (Kaal Bhairav Mandir)

सर्वप्रथम हम बात करते हैं काल भैरव उज्जैन। भगवान काल भैरव का मंदिर शिप्रा नदी के किनारे स्थित है। इस मंदिर की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यहां भगवान कालभैरव की प्रतिमा को शराब का भोग लगाया जाता है। आश्चर्य की बात यह है कि देखते ही देखते, पात्र जिसमें शराब रखा जाता है खाली हो जाता है। शराब कहां जाती है, आज तक रहस्य बना हुआ है।

यहां रोज श्रद्धालुओं के द्वारा काल भैरव को शराब अर्पित की जाती है। मंदिर के पुजारी के अनुसार इस मंदिर का वर्णन स्कंद पुराण के अवंती खंड में मिलता है। इस मंदिर में भगवान काल भैरव के वैष्णव स्वरूप का पूजन किया जाता है।

इस मंदिर से जुड़ी अनेक प्राचीन कथाएँ भी प्रचलित है। जिनके अनुसार उज्जैन के राजा ने, भगवान महाकाल को इस स्थान पर शहर की रक्षा के लिए स्थापित किया था। काल भैरव को शहर का कोतवाल भी कहा जाता है।

करीब एक दशक पहले मंदिर की इमारत को मजबूती देने के लिए बाहर की ओर निर्माण कार्य करवाए गए थे। इस निर्माण के लिए मंदिर के चारों ओर करीब 12-12 फीट गहरी खुदाई की गई थी।

इस खुदाई का उद्देश्य मंदिर का जीर्णोध्धार करना था। लेकिन कौतुहल बस यहाँ भीड़ हो गई थी, जो जानना चाहती थी की जब काल भैरव शराब का सेवन करते हैं तो वह शराब कहां जाती है। लेकिन खुदाई में ऐसा कुछ नहीं मिला, जिससे कुछ पता लग सके।

इस मंदिर के रहस्य के बारे में जानने के लिए कई वैज्ञानिक भी आए लेकिन वह भी इस चमत्कार के पीछे का कारण नहीं जान पाए।

2.  जगन्नाथ पुरी मंदिर, उड़ीसा

जगन्नाथ पुरी मंदिर ओडिशा में स्थित है। धार्मिक नगरी पुरी में भगवान जगन्नाथ, भगवान बलराम और देवी सुभद्रा का विश्व प्रसिद्ध मंदिर है। हिंदू पंचांग के अनुसार यहां हर साल आषाढ़ महीने में विशाल रथ यात्रा का भव्य आयोजन होता है। इस रथ को खींचने के लिए पूरी दुनिया से श्रद्धालु यहां आते हैं। भगवान जगन्नाथ के भक्तों को मोक्ष की प्राप्ति होती है माने या ना माने यह विश्वास पर निर्भर करता है।

इस मंदिर से जुड़ी कुछ ऐसे अनोखे रहस्य हैं जिनके बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे कि क्या ऐसा भी हो सकता है? वास्तव में यह मंदिर आस्था के साथ-साथ आपने रहस्य के लिए प्रसिद्ध है। मंदिर का ध्वज सदैव हवा के विपरीत दिशा में लहराता है, ऐसा किस कारण होता है यह तो वैज्ञानिक ही बता सकते हैं। लेकिन यह निश्चित ही आश्चर्यजनक बात है।

यह भी आश्चर्य है कि प्रति दिन सांयकाल के समय मंदिर के ऊपर स्तिथ ध्वज को मानव द्वारा उल्टा चढ़ कर बदला जाता है।

3. माता शारदा का मंदिर, (मैहर) मध्यप्रदेश

मध्यप्रदेश के सतना जिले में मैहर तहसील में त्रिकूट पर्वत पर स्थित माता शारदा का मंदिर भी अपने रहस्यों से भरा है। मैहर में स्थित इस माता शारदा देवी के मंदिर को शक्तिपीठ कहा जाता है। इस मंदिर की शक्ति का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अभी भी आल्हा, मां शारदा की पूजा करने रोज सुबह पहुंचते हैं।

मैहर मंदिर के पंडित बताते हैं कि अभी भी मां का पहला सिंगार सबसे पहले आल्हा ही करते हैं। और जब ब्रह्म मुहूर्त में शारदा मंदिर के पट खोले जाते हैं, तो पूजा की हुई मिलती है। इस रहस्य को सुलझाने तो वैज्ञानिकों और मीडिया की टीम भी मंदिर पर डेरा जमा चुकी है। लेकिन रहस्य अभी भी बरकरार है।

एक अन्य मान्यता के अनुसार भगवान शंकर के तांडव के समय माता पार्वती के गले का हार त्रिकूट पर्वत के शिखर पर गिरा था जिससे यह माता का शक्तिपीठ बना।

4. ज्वाला देवी मंदिर, हिमाचल प्रदेश

हिमाचल प्रदेश में काँगड़ा से 30 किलोमीटर दूर ज्वाला देवी का विश्व प्रसिध्द मंदिर है। ज्वाला देवी के प्रसिद्ध मंदिर को ज्योति वाली मां का मंदिर और नगरकोट भी कहा जाता है। मंदिर अपने आप में अनोखा है, क्योंकि यहां पर हैं किसी मूर्ति की पूजा नहीं होती बल्कि धरती के गर्भ से निकल रही 9 ज्वालाओं की पूजा होती है।

इस मंदिर में अनंत काल से ज्वाला जल रही है। यह मंदिर भारत में स्थित 51 शक्तिपीठों में से एक है। यहां पर माता सती की जीभ गिरी थी। मंदिर प्रांगण में गोरखडिब्बी नाम की जगह जो एक जलकुंड है। इस कुंड में खोलता हुआ पानी है। लेकिन कुंड का पानी छूने पर ठंडा लगता है।

5. भोजेश्वर मंदिर, मध्य प्रदेश


भोजेश्वर शिव का मंदिर, (भोजपुर) मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से 32 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। भोजपुर से लगती हुई पहाड़ी पर एक विशाल शिव मंदिर है। यह भोजपुर, शिव मंदिर या भोजेश्वर मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है।

भोजपुर और इसके शिव मंदिर का निर्माण परमार वंश के प्रसिद्ध राजा भोज द्वारा 1080 से 1055 ईसवी के बीच में कराया गया था। इस मंदिर की पहली विशेषता इसका विशाल शिवलिंग है। विश्व का एक ही पत्थर से निर्मित सबसे बड़ा शिवलिंग।

इस मंदिर में स्थित शिवलिंग की लंबाई 5.5 मीटर यानी 18 फीट है। व्यास 2.3 मीटर यानी 7.5 फीट तथा शिवलिंग की ज़मीन से ऊपरी भाग तक की लंबाई 3.85 फिट है।

ऐसा कहा जाता है की इस मंदिर का निर्माण राजा भोज ने करवाया था। इसके अधूरे रहने के पीछे की कहानी है की इस मंदिर का निर्माण सिर्फ एक ही दिन में होना था, लेकिन सुबह होते ही इस मंदिर के निर्माण कार्य को रोक दिया गया और यह मंदिर हमेशा के लिए अधूरा रह गया।

दोस्तों यह हैं भारत के पांच रहस्यमयी मंदिर। जिन्हें देखने आपको जरूर जाना चाहिए। अगर आपको इनमें से किसी मंदिर की जानकारी पसंद आई हो तो आप किसी मंदिर के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं हमारे फ्री न्यूजलेटर को सब्सक्राइब करें और फेसबुक पेज को लाइक जरूर करें। अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ Facebook, Whatsapp में शेयर करना ना भूलें।
जय माता दी!





Topics : #Hindu temples #Temples #mandir #Temples mystery #mysterious temples in india, #5 Mysterious Temples in India

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां